लोकल समाचार

Betul Blood Donation : आमला वालो ने फिर बताया, हमारी नसों में खून नही मानवता बहती है, बचपन प्ले स्कूल के शिविर में 111 यूनिट हुआ रक्तदान

Betul Blood Donation : आमला वालो ने फिर बताया, हमारी नसों में खून नही मानवता बहती है, बचपन प्ले स्कूल के शिविर में 111 यूनिट हुआ रक्तदान

Betul Blood Donation : (बैतूल)। रक्तदान के शिविर नही होते है बल्कि ये मौत के पंजे से जीवन छीन लाने की कोशिशें होती है, ऐसी ही एक कोशिश बचपन ‘ए’ प्ले स्कूल एंड एकेडमिक हाइट्स पब्लिक स्कूल एवं जनसेवा कल्याण समिति के संयुक्त तत्वावधान में हुई। जहां रक्तदान के लिए आमलावासी हर बार की तरह उत्साह में नजर आए। आयोजन समिति की ओर से नीरज बारस्कर, राहुल धेण्डे व चन्द्रकिशोर टिकारे ने बताया कि जैसा हमे अनुमान था वैसे ही दिलदार रक्तदाताओं की भीड़ इस आयोजन में दिखाई दी, उन्होंने बताया कि कुल 111 यूनिट रक्तदान हुआ।

आकाश जैन, अमित यादव व सागर चौहान, भावेश मालवीय ने जानकारी दी कि रक्तदाताओं को सम्मानित करने एवं आभार व्यक्त करने के प्रयोजन से इस बार रक्तदान करने वालो को प्रमाण पत्र के साथ मेडल भी प्रदान किये गए। सुबह से शुरू हुआ रक्तदान शिविर शाम 4 बजे तक चला, नियत समय पूर्ण होने के बावजूद युवाओं व शहरवासियों की भारी संख्या बता रही थी कि आमला में रक्तदान को लेकर क्या जज्बा है।

आयोजन समिति के नितिन ठाकुर, डॉक्टर शिशिरकान्त, हर्षित ठाकरे ने बताया कि इस बार रक्तदान शिविर आमला में रक्तक्रान्ति के प्रणेता रहे स्व. पंकज उसरेठे एवं स्व.शशि टिकारे की पुण्य स्मृति में आयोजित किया था। आमला में रक्तदान के प्रति जागरूकता देख बैतूल जिला हॉस्पिटल से आई ब्लड बैंक की टीम भी खासी प्रभावित दिखी, उन्होंने बताया कि पूरे बैतूल जिले में जो माहौल आमला में रक्तदान के लिए दिखता है वो अतुलनीय है। बैतूल से आए शैलेंद्र बिहरिया एवं दीप मालवीय ने बताया कि जिले में सबसे ज्यादा ब्लड केम्प आमला में ही लगते है एवं रक्तदान शिविर का आयोजन करवाने वाली विभिन्न समितियां मिलकर एक दूसरे का सहयोग कर शिविर को सफल बनाती है।

उन्होंने कहा कि जीवन मे स्वार्थी बनने से अच्छा है किसी का जीवन बचाने व जीवन चलाने रक्तदान करके सारथी बना जाए। जित्तू भावसार एवं कैलाश ठाकरे, जगदीश झाड़े ने बताया 111 यूनिट रक्त से बहुत सारे पीड़ितों को राहत मिल सकेगी, हम सब ईश्वर से यही प्रार्थना करते है कि हमारे आमला में रक्तदान के प्रति ये जागरुकता व समर्पण सदा इसी तरह बना रहे, ताकि कभी किसी पीड़ित को रक्त की कमी से हारना न पड़े।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker